Propeller

244 गेंद में सिर्फ 25 रन बनाने वाला दुनिया का एकमात्र बल्लेबाज,भारत ने की थी घातक गेंदबाजी

क्रिकेट दुनिया का सबसे लोकप्रिय खेल है और इस खेल को भारत में काफी ज्यादा पसंद किया जाता है लेकिन टेस्ट क्रिकेट को इतना लोकप्रिय नहीं माना जाता है लेकिन कुछ ऐसे भी टेस्ट मैचे हुए जिनको उनके रोमांच पल के लिए आज याद किया जाता है। और एक ऐसा ही टेस्ट मैच 2015 में भारत और साउथ अफ्रीका के बीच हुआ था।

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच खेली जा रही चार मैचों की टेस्ट सीरीज के चौथे टेस्ट मैच में भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 334 रन का स्कोर बनाया। जिसके जवाब में साउथ अफ्रीका की टीम 121 रन पर आल आउट हो गई। इसके बाद दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने अपनी पारी 267/5 रन पर घोषित कर दी।


Third party image reference
जिसके बाद भारतीय टीम ने साउथ अफ्रीका को जीत के लिए चौथी पारी में 481 रनों का लक्ष्य दिया। साउथ अफ्रीका के लिए यह लक्ष्य हासिल करना आसान नहीं था इसलिए टीम के खिलाड़ियों ने हार को बचाने के लिए बहुत ही रोमांचक पारियां खेली। जिसको जानकर आपको भी अभी विश्वास नहीं होगा।


Third party image reference
इस लक्ष्य के जवाब में साउथ अफ्रीका की टीम ने पांचवे दिन की शुरुआत में का स्कोर 72/2 था। जिसके बाद अफ्रीका की टीम ने पांचवें दिन लंच तक का खेल समाप्त होने तक 94/3 रन का स्कोर बनाया। इस मैच फाफ डु प्लेसिस 53 गेंद खेलने बाद अपना खाता खोला।


Third party image reference
हाशिम अमला एक बड़ी मैराथन पारी खेलकर 244 गेंद में सिर्फ 25 रन बनाकर आउट हो गए थे। इसके बाद भी एबी डीविलियर्स ने मैच बचाने की कवायद जारी रखी।


Third party image reference
अंत में डीविलियर्स का संघर्ष खत्म हुआ और वह 297 गेंद में 43 रन बनाकर आउट हो गए। इस मैच में साउथ अफ्रीका के 5 बल्लेबाज़ 7 रन के अंदर पवेलियन लौट गए। इस पारी में एबी डिविलियर्स और हाशिम आमला ने जिस तरह की बल्लेबाजी की वह आज भी लोगों के दिलों में आज भी जिंदा है।


Third party image reference
भारत की तरफ से रविंद्र जडेजा ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 5 विकेट हासिल किए और उमेश यादव ने 21 ओवर में 16 मैडेन सहित सिर्फ 9 रन देकर 3 विकेट लिए।


Third party image reference
इस तरह भारतीय टीम ने यह मुकाबला 337 रन से जीत लिया। इस मैच में अजिंक्य रहाणे को शानदार शतकीय पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। और इस सीरीज में रविचंद्रन अश्विन को मैन ऑफ द सीरीज चुना गया। यह भारतीय टेस्ट इतिहास की सबसे यादगार जीतों में से एक है।

Post a Comment

0 Comments